Weather (state,county)

Breaking News

तांत्रिको का बादशाह त्रिजटा अघोरी

Image result for त्रिजटा अघोरी picture





त्रिजटा   अघोरी   का   व्यक्तित्व   
हिमालय के  क्षेत्र  में  तंत्र  साधनाओ  के  मामले  में  त्रिजटा  अघोरी  का  कोई  मुकाबला  नहीं  है  हमारे  समाज  में  अघोरी  शब्द  का  अर्थ  है  जो  

गन्दा  रहता  हो  नहाता  -धोता  नहीं  हो  ,जिसके  शरीर  से  बदबू   आती  हो  मगर  ये  अपनी   वास्तविक  पहचान  को  छुपाने  के  उद्देश्य  से  ऐसा  

करते  है  जो  लोग  इनके  साथ  कुछ  दिनों  तक  रहे  है  उन्हें  इनके  वास्तविक  स्वरूप  का  पता  होता  है  कि  हिमालय के  क्षेत्र  में  तंत्र 

साधनाओ  के  मामले  में  त्रिजटा  अघोरी  का  कोई  मुकाबला  नहीं  है मगर  फिर  भी  वह  नहीं  पहुच  पाता  क्योकि  यहाँ  प्रवेश  के  नियम   

बहुत  ही  कठिन  है ऐसी  विपरीत  स्थितियों  में  अघोर  साधना  के  माध्यम  से  आसानी  से  साधना  मार्ग  पर  अग्रसर  होकर  सिद्धाश्रम  में  

पहुच  पाते  है  जहा  जाने  के  लिए  देवता  भी  तरसते  है  त्रिजटा  अघोरी  इस  मार्ग  के  सबसे  बड़े  साधक  माने  जाते  है  ये  भारत  वर्ष  की  

सिरमौर  माने  जाने  वाली  साधनाए जैसे -परकाया  प्रवेश ,संजीवनी  विध्या ,वायु  गमन  क्रिया ,मानसिक  आघात क्रिया  ,संकल्प  साधना 

,पारद  विज्ञान ,लक्ष्मी  साधना ,कृत्या   सिद्धि और  न  जाने  कितनी असाधारण  तांत्रिक  क्रियाओ  का  ज्ञान  इनके  पास  था  आगे  चलकर 

यह  हिमालय  के  सिद्ध  साधको  में  अग्रणी  स्थान  प्राप्त  कर  सिद्धाश्रम  में  पहुचे  इनके  शारीर  से  सुगंध  प्रवाहित  होती  थी  वास्तव  में  यह गंदे  

इसलिए  रहते  है  जिससे  इनकी  असली  पहचान  छिपी  रहे  वास्तव  में  साधना  के  पहले  यह  भी  नहाते  है  और  पूजा  पाठ  के  सभी  नियमो 

का  पालन  करते  है  लेकिन  जब  समाज  में  आते  है  तब  जान  पूछकर अपने  शरीर  पर  मिटटी  डाल  लेते  है  अतः त्रिजटा अघोरी  का  नाम 

तंत्र  के  साधक  बड़े  सम्मान के साथ  लेते  है | 

           तंत्र  कोई  भय  नहीं          
आजकल  समाज  में  जिस  तरह  से  तंत्र को  देखा  जाता  है  वास्तव  में  ऐसा  बिलकुल  नहीं  है  किसी  भी  चीज का  प्रेक्टिकल स्वरुप   तंत्र  

कहलाता  है  जैसे  जब  हमें  साईकिल  चलाना  नहीं  आती  तब  हम  सोचते  है  कि  यह  कैसे  चलती  है  और  जब  रोज  चलाने   का  अभ्यास  

करते  है  तब  उसके  हर  पहलू  को  जान जाते  है  कि  ब्रेक  कैसे  लगते    स्पीड  बढाने  के  लिए  पैडल  पर  किस  प्रकार  पैरो  से  जोर लगाते   है  

और  किस  प्रकार  बलेंस  बनाते  है  कहने  का  मतलब  हमें  उसकी  सारी क्रिया  का  प्रेक्टिकल  ज्ञान   हो  जाता  है  बस  इसी  को  तंत्र  कहते  है 

जब  हम  साइकिल  से  गिरते  है  तब  बड़ी  चोट  लगती  है यह  साइकिल  चलाने  का  दूसरा  पहलू  है  इसी  प्रकार  बहुत  से    इस  विध्या  का  

गलत  उपयोग  कर  लेते  है  और  समाज को  धन  के  लालच  में  नुक्सान  पहुचाते  है  इसीलिए  तंत्र  की   उच्चकोटि  की   विध्यायो  पर   

गुरुओ  ने  रोक  लगा  दी  और  उनके  मंत्रो  का  कीलन  कर  दिया  जिससे  समाज  को  कोई  नुक्सान  नहीं  पंहुचा  सके  वास्तव में असली  

तंत्र  तो  ख़त्म  होने  के  कगार  पर  है  बहुत  से  ठग  लोग बलि  चढा कर या   कुकर्म  कर  तंत्र  का  नाम  दे  देते   है  वास्तव  में  यह  तंत्र  है  ही 

नहीं  सच्चा  तंत्र  तो  हमारे  जीवन  की सभी  बुराइयो  को  दूर  कर  ईश्वर  की  ओर  ले जाने  वाला  होता  है  हमारा  जीवन  वास्तविकता  के  आधार  

पर  बहुत  ही  कठिन  होता  है  क्योकि  यहाँ  पूरे  जीवन  में  कभी  कभी   ना  कभी   संघर्ष  का  समय  आता  ही  है  इसीलिए  कहावत  है  जहा  

मनुष्य  है  वहा  समस्या  जरूर  होगी   ऐसे  में  तंत्र  हमारी  पूर्ण  सहायता  करता  है  और  इसके  माध्यम  से  सभी  चीजो  का   पूर्ण समाधान  होना  
संभव  है  | 
त्रिजटा  अघोरी  के  जीवन  की   एक  घटना  
एक  बार की  बात है  अघोरीजी  हिमालय  की   पहाड़ी  पर  एक  गाव  के  पास  अपने  कुछ  शिष्यों  के  साथ  डेरा  डाले  हुए  थे   और  अपने 

 शिष्यों  को  साधना  की  बारीकिया  समझा  रहे  थे  संजीवनी  विध्या  के  बारे  में  बताते  हुए  बाबा  ने   कहा  कि  इसके  माध्यम  से  मरे  हुए  

व्यक्ति  को  भी  जिन्दा  किया  जा सकता  है  यह  सुनकर  सारे  शिष्य  आश्चर्य  से  भर  गए  त्रिजटा  ने  बताया  कि  रामायण  में  लक्ष्मण 

 मुर्छित  होने  का  जिक्र  है  यानि  बेहोशी  मगर  वास्तव  में  कोई  भी  प्राणी  या  जंगली  जानवर हो  उसे  कुछ  ही  समय  में  घायल  अवस्था  

या  मरी  अवस्था  में  भी  जीवित  किया  जा  सकता  है  उसी  समय  एक  घटना  घटित  हुई  पास  में  ही  एक  चरवाहा  अपनी  भेड़ ,बकरिया  चरा  


रहा  था  एक  बकरी  का  पैर  पहाड़ी  पर  से  फिसल  गया  और  वह  नीचे  गिर  कर  मर  गयी  चरवाहे  को  पता  था  कि  एक  तांत्रिक  बाबा  यहाँ  

रहते  है  इसलिए  वह  अपनी  बकरी  को  बाबा  के  पास  लाया  और  बोला  बाबा  कि  इस  बकरी  का  कुछ  इलाज  करो  बाबा  ने  उसे  मना  कर  

दिया    कि  अब  इसका  कोई  इलाज  नहीं  है  सभी  शिष्य  यह  सब  बाते  देख  रहे  थे  उन्होंने  बाबा  से कहा  कि  आप  हमें  संजीवनी  विध्या  के  

बारे  में  सिखा  रहे  थे  कृपया  हमें  प्रेक्टिकल  ज्ञान  प्रदान  करे  क्योकि  आज  जैसा   वाकया  बार  बार  उपस्थित  नहीं  होता  बाबा  ने  प्रक्रति के  

कार्य  में  हस्तक्षेप  का  हवाला  देकर  मना   कर  दिया  मगर  शिष्यों  के  बार  बार  प्रार्थना  करने  पर  बाबा  ने  संजीवनी  क्रिया  कर  बकरे  को  

जीवन  प्रदान  करने  का  मन  बनाया  बकरे  को  जमीन  पर  सुलाया  गया  बाबा  ने  पास  जाकर  कुछ  मंत्रो  का  उच्च्चारण  शुरू  किया   

उच्चारण  करते  ही  बाबा  का  मुह  लाल  सुर्ख  और  हाथो  से  आग  की   चिंगारी  प्रकट  होने  लगी  अगले  ही  पल  बाबा  ने  वह  चिंगारी  बकरे  

कि  ओर  उछाल  दी  वह  चिंगारी  बकरे  में  प्रवेश  कर  गयी  बकरा  तुरंत  ही  जमीन  पर  से  उठा  और  खड़ा  होकर  एक  ओर  भाग  गया  यह  सब  

देखकर  शिष्यों  व् चरवाहे  में  हर्ष  का  संचार  हो  गया  बाबा  की   जयजयकार  होने  लगी  यह  खबर  सुनकर  पूरा  गाव  आश्चर्य  से  भर  

गया  और  लोग  बाबा  से  मिलने  को  उतावले  होने  लगे  मगर  बाबा  ने  लोगो  को  भैरव   पहाड़ी  पर  आने  के  लिए  मना  कर  दिया  क्योकि  

बाबा  प्रचार  प्रसार  से  बहुत  दूर  रहते  थे  इस  प्रकार  संजीवनी  विध्या  आज  भी  जीवित  है  | किसी  साधक  में  इतनी  क्षमता  हो  कि  

हिमालय  में  ऐसे  साधू  ,सन्यासियों   की   खोज  करे  तो  संभव  है  ऐसी  कई  विध्या  सीखी  जा  सकती  है  जिससे  समाज  को  फायदा  प्राप्त  हो  
सके | 

Comments

Formulir Kontak

नाम

ईमेल*

संदेश*