Weather (state,county)

Breaking News

ब्रह्मर्षि किसे कहते है ?




Image result for rishi pictures


ज्यादातर  लोग  सोचते  है  कि  ब्रह्म  का  ज्ञान  प्राप्त  कर  लेने  से ब्रह्मर्षि  की  उपाधि  प्राप्त  हो  जाती  है  मगर  ऐसा  नहीं  है  क्योकि 

अगर ऐसा  होता तो  ऐसे  बहुत  से  ऋषि , मुनि  हुए  है  जिन्हें  ब्रह्म  का  पूर्ण  ज्ञान  था  मगर  उनमे  से  बहुत  कम  ऋषियों  को  ब्रह्मर्षि  की   

उपाधि  प्राप्त  हो  सकी  वास्तव  में  जिस  प्रकार  से  तलवार  की   धार   धार  पर  कोई  व्यक्ति   चले  और  उसके  पैरो  से  रक्त  ना  बहे  ऐसा  हो  

ही  नहीं  सकता  उसी  प्रकार  जब  एक ऋषि  ब्रह्मज्ञान  प्राप्त  कर  पूर्ण   सत्य  को  जानकर  और  इसके  साथ  ही  साथ  दसो  महाविध्या  सिद्ध  

कर  लेता  है  (यहाँ  यह  बता  दू  कि  एक  महाविध्या  प्राप्त  करने  में  पूरा  जीवन  लग  जाता  है  तब  भी  बिना  सद्गुरु  के  इसे  प्राप्त  नहीं 

 किया  जा  सकता तो  दस  महाविध्या  प्राप्त  करना  कितना  कठिन  कार्य  होगा  आप  स्वयं  कल्पना  कर  सकते  है ) इससे  भी  आगे  बढ़कर  

साधनाओ  का  ज्ञान  प्राप्त  कर  इस  स्रष्टि  में  हस्तक्षेप  करने  की  सामर्थ्य  प्राप्त  करने  के  बाद  परम  गुरु  की  उपाधि  से  विभूषित  होने  

पर  ही  ब्रह्मर्षि  की  पदवी  को  प्राप्त  करता  हुआ  सम्पूर्ण   ब्रह्माण्ड  का  नायक  बन  जाता  है  सच  में  इसे  बताने  के  लिए  एक  ही  उदाहरण  है 

 जैसे  कोई  कहे  कि बोतल  के  अन्दर   हाथी  को  डालो  सच  बताइए  कि क्या  यह  संभव  है मगर  कुछ  व्यक्ति  ऐसे  होते  है  जो  इस  क्रिया   को  

संपन्न  करके  दिखला  सकते है   उस  व्यक्ति  को  ही  ब्रह्मर्षि  कहते  है ऐसा  व्यक्ति  साधारण  मानव  की   श्रेणी  में  नहीं  रखा  जा  सकता  वह 

 तो  वास्तव  में  महामानव  या  दूसरे  रूप  में उसे ब्रह्मर्षि  कहते  है  लेकिन  ऐसा  नहीं  है  कि  इसके  आगे  नहीं  बढ़ा  जा  सकता  इसके  

आगे  नया  ब्रह्माण्ड  सृजन  क्रिया    करने  का  ज्ञान जिन  ऋषियो  को  होता  है  उन्ही  को  साक्षात्  ईश्वर  के  नाम  से  पुकारा  जाता  है  जिनमे  

ब्रह्मा , विष्णु,  महेश  को  तो  दुनिया  जानती  है  मगर  इसके  अलावा  भी  कई  व्यक्तित्व  है जैसे - श्री  कृष्ण ,विश्वामित्र ,स्वामी  

निख्लेश्व्रानन्दजी और  इन  तीनो  के  भी  गुरु  श्री श्री दादा  गुरु  स्वामी सच्चिदानान्दजी महाराज जो  सम्पूर्ण  अध्यात्मिक  जगत  की  बागडोर 

 संभाले  हुए  है  जो  धार्मिक क्रिया   कलापों  का  सञ्चालन  करने  के  लिए  इस  पृथ्वी  ग्रह  पर  कभी  कृष्ण  कभी  शंकराचार्य  कभी  

निखिलेश्वरानंद  जैसे  अनेक  महापुरुषों  को  भेजते  रहते  है  उनके  सामने  साधना  और  तपस्या  जैसे  शब्द  भी  बहुत  छोटे  प्रतीत  होते  है  

क्योकि  वे  गुणों  की   खान  है  सभी  सिद्धिया  उनके  आगे  नृत्य   करती  रहती  है |  

Comments

Formulir Kontak

नाम

ईमेल*

संदेश*